जम्मू—कश्मीर: पुलिसवालों की हत्या के पीछे है ये आतंकी




नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के शोपियां में तीन पुलिसवालों को अगवा करने के बाद उनकी हत्या के पीछे हिज्बुल कमांडर रियाज नायकू का नाम आ रहा है। आतंकियों ने 4 लोगों को अगवा किया, फिर बाद में एक युवक को छोड़ दिया। छोड़ा गया युवक एक पुलिसकर्मी का भाई था, लेकिन वह तीन पुलिसकर्मी इतने किस्मत वाले नहीं निकले और आतंकियों ने उनकी हत्या कर दी। तीनों पुलिसकर्मियों के गोलियों से छलनी शव कापरान गांव के एक जंगल से बरामद किए हैं। इनके नाम फिरदौस, कुलवंत सिंह और निसार अहमद बताए जा रहे हैं।
आतंकियों ने पहले तीनों पुलिसकर्मियों को नौकरी छोड़ने की धमकी दी थी। आतंकी रियाज नायकू ने ही 12 मिनट के एक वीडियो के जरिए अपहरण की जिम्मेदारी ली थी। उसने वीडियो में आतंकियों के सभी परिजनों को रिहा करने के लिए तीन दिन का वक्त भी दिया था। यही नहीं कुछ दिन पहले हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकियों ने भी पोस्टर और वॉट्सऐप मेसेज के जरिए पुलिसकर्मियों को इस्तीफा देने, नहीं तो अंजाम भुगतने की धमकी दी थी। जम्मू-कश्मीर के कई गांवों में इसके पोस्टर्स भी लगाए गए थे। वीडियो में आतंकियों ने यह भी कहा था कि इस्तीफे की कॉपी इंटरनेट पर अपलोड की जाए।

कौन है रियाज नायकू?
रियाज नायकू उर्फ मोहम्मद बिन कासिम सेना की हिटलिस्ट में काफी ऊपर है। उसे A++ श्रेणी का आंतकी बताया गया है। बांदीपोरा का रहने वाला नायकू 2010 से कश्मीर में आतंकी गतिविधियों में शामिल है। रियाज नायकू को कट्टर आतंकियों के बीच उदारवादी चेहरा माना जाता रहा है। 29 साल के रियाज नायकू को हिजबुल कमांडर सबजार बट की मौत के एक दिन बाद ही नया कमांडर नियुक्त कर दिया गया था। रियाज चर्चा में उस वक्त आया था जब 11 मिनट का एक वीडियो जारी कर उसके सहयोगी जुबैर की तरफ से कश्मीरी पंडितों को संबोधित करते हुए उनसे घाटी में लौटने की अपील की गई थी।

22 अगस्त से अब तक 9 पुलिसकर्मी मारे गए
पुलिसकर्मियो की हत्या का सिलसिला 22 अगस्त से जारी है। 22 अगस्त को ईद-उल-जुहा के बाद से आतंकी अब तक 9 पुलिसकर्मियों की हत्या कर चुके हैं। ईद के दिन ही आतंकियों ने साउथ कश्मीर में तीन पुलिसवालों की घर में घुसकर हत्या कर दी थी। ये तीनों ईद मनाने अपने घर आए थे। इसके अलावा बुधवार को एस्कॉर्ट ड्यूटी में तैनात चार पुलिसकर्मियों की शोपियां में हत्या कर दी गई थी।

पंचायत चुनाव बाधित करने की कोशिश
जम्मू-कश्मीर में आतंकियों द्वारा यह धमकी उस वक्त सामने आ रही है जब केंद्र ने जम्मू-कश्मीर में पंचायत चुनाव की घोषणा कर दी है। माना जा रहा है कि आतंकी संगठन कश्मीर में पंचायत चुनाव से पहले दहशत फैलाकर चुनावी प्रक्रिया को बाधित करना चाहते हैं।




Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*