राहुल: फोन कर पित्रोदा को कहा आपको शर्म आनी चाहिए, बयान पर मांगे माफी




कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि 1984 के सिख दंगों पर सैम पित्रोदा ने जो कुछ भी कहा है, वो बिल्कुल गलत है। राहुल गांधी पंजाब के फतेहगढ़ साहिब में लोकसभा चुनाव प्रचार करने के लिए पहुंचे। यहां एक जनसभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सैम पित्रोदा को ऐसा नहीं कहना चाहिए था। इसके लिए उन्हें पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए।

राहुल ने बताया कि मैंने उन्हें फोन किया था और कहा था कि उन्होंने जो कुछ बोला है, वो सरासर गलत है। उन्हें ऐसा बोलने पर शर्म आनी चाहिए और सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए। बता दें कि लोकसभा चुनाव 2019 के अंतिम चरण में पंजाब का सियासी पारा चढ़ता जा रहा है। राहुल गांधी पहली बार प्रदेश में कांग्रेस के लिए रैली कर रहे हैं। फतेहगढ़ साहिब से कांग्रेस से अमर सिंह चुनाव लड़ रहे हैं।

राहुल गांधी ने पीएम मोदी पर किया तीखा वार

होशियारपुर में राहुल गांधी की रैली

होशियारपुर में राहुल गांधी की रैली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए राहुल गांधी ने कहा कि वह भ्रष्टाचार की बात करते हैं तो मैंने कहा कि आओ आमने-सामने बैठ कर एक बार डिबेट करते हैं। आप जहां चाहो वहीं डिबेट के लिए तैयार हैं चाहे वह रेस कोर्स रोड हो, चाहे लोगों में या किसानों में जहां भी चाहो वहीं डिबेट होगी। आप जितना चाहे बोल लेना पर मुझे सिर्फ 15 मिनट दे देना।

मैं गारंटी देता हूं कि इसके बाद मोदी लोगों को अपना चेहरा नहीं दिखा सकेंगे लेकिन मोदी डिबेट नहीं करेंगे क्योंकि चौकीदार डरता है। उन्होंने कहा कि चौकीदार इतना डर गया है कि वह टेलिप्रॉम्प्टर पर पढ़कर भाषण देता है। उसके भाषण के दौरान दो टेलिप्रॉम्प्टर लगते हैं कि एक पर उनका भाषण चलता है और दूसरे पर लिखा होता है कि किसानों की बात न करना, नौजवानों की बात न करना, लोग गुस्से में है, रोजगार की बातें न करना।

कांग्रेस की न्याय योजना के बारे में राहुल गांधी ने कहा कि यह सिर्फ पांच करोड़ परिवारों और 25 करोड़ लोगों को लाभ देने वाली एक ऐसी योजना है जो सोच समझ कर पूरे सर्वे के बाद तैयार की गई है। जब न्याय योजना द्वारा लोगों के खातों में 6000 रुपये प्रति महीना आएंगे तो लोग सामान खरीद सकेंगे, जिससे दुकानें चलेंगी और फैक्ट्रियों का काम भी शुरू हो जाएगा। रोजगार बढ़ेगा। फिर वही फैक्ट्री मालिक घरों से बुला-बुलाकर लोगों को रोजगार देंगे कि आओ भाई काम करो, उत्पादन बढ़ाओ क्योंकि अब मोदी चला गया है।

राहुल ने कहा कि जहां कांग्रेस की सरकार है, वहीं के किसानों का कर्ज माफ हुआ है। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के भाई तक का कर्ज माफ हुआ है लेकिन वह भी झूठ बोल रहे हैं। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के पारिवारिक सदस्यों के कर्ज माफी फार्म मुझे भेजे तो मैंने फोन पर चौहान को पूछा कि जब आपके परिवार का कर्ज माफ हुआ है तो आप झूठ क्यों बोल रहे हो।

उन्होंने कहा कि 2 करोड़ नौकरियां देने का वादा करने वाले मोदी के राज में हर घंटे 27 हजार नौजवान अपना रोजगार खो रहे हैं। किसानों के लिए कर्ज कुर्की और गिरफ्तारी खत्म करने संबंधी कानून की बात करते कहा कि अनिल अंबानी ने 45 हजार करोड़ रुपये अभी तक वापस नहीं दिए लेकिन इसके बावजूद वे जेल में नहीं हैं।

इसके बावजूद यदि होशियारपुर में किसी गरीब ने 20 हजार रुपये का कर्ज वापस नहीं किया होता तो वो आज जेल में होता। उन्होंने कहा कि सरकार बनने पर हम ऐसा कानून लाएंगे कि कर्ज वापस न करने पर किसी भी किसान की गिरफ्तारी नहीं होगी। सरकार बनने पर ऐसा सिस्टम बनाया जाएगा जिसमें किसी भी कारोबार को शुरू करने के लिए मंजूरी नहीं लेनी पड़ेगी।

कोई भी व्यक्ति अपना काम शुरू करे और 3 वर्ष बाद यदि वो कामयाब हो जाए। 30 लोगों को उससे रोजगार मिलने लगे तो वह मंजूरी के लिए आवेदन करे तो आसानी से मिल जाएगी।

अगर काम न चल पाए तो कोई बात नहीं, नए सिरे से प्रयास करो। उन्होंने कहा कि यदि कांग्रेस सत्ता में आती है तो 22 लाख नौजवानों को रोजगार देगी तथा 10 लाख नौजवानों को पंचायतों में रोजगार भी दिया जाएगा। मोदी चाहे मनरेगा का मजाक उड़ाएं, लेकिन गरीब लोगों को रोजगार देने का यह सबसे बड़ा साधन है।

उन्होंने कहा कि चुनाव तो अब खत्म होने वाले हैं। आप अब मोदी का चेहरा देखो, पता चलता है कि उन्होंने हार मान ली है। उन्होंने कहा कि वो कभी रडार की बात करते हैं और कभी आम खाने की, लेकिन मुद्दों की बात नहीं करते। इस मौके पर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि हम सबसे पहले हिंदुस्तानी हैं लेकिन नरेन्द्र मोदी देश की यह पहचान खत्म करने पर तुले हैं। यदि मोदी इसी तरह चलता रहा तो जिस हिंदुस्तान को हम जानते है, वो बच नहीं सकेगा।




Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*