पुलिस पर बदसलूकी का आरोप: CRPF रिपोर्ट में दावा- प्रियंका गांधी ने तोड़े थे सुरक्षा नियम, किया इनकार




लखनऊ. गत शनिवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा के द्वारा लखनऊ पुलिस पर लगाए गए बदसलूकी के आरोप पर सीआरपीएफ (CRPF) ने अपनी रिपोर्ट सौंप दी है. रिपोर्ट में प्रियंका गांधी पर ही सुरक्षा नियमों की अनदेखी का आरोप लगा है. आईजी इंटेलिजेंस पीके सिंह ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि प्रियंका की सुरक्षा में कोई चूक नहीं हूई थी, बल्कि उन्होंने बिना बताए तय कार्यक्रम के विपरीत अपने फ्लीट का रूट बदल लिया. इतना ही नहीं उन्होंने बुलेटप्रूफ गाड़ी का इस्तेमाल भी नहीं किया, जो नियमों की अनदेखी है. सीआरपीएफ ने प्रियंका से नियमों का पालन करने की सलाह दी है.

अपने रिपोर्ट में सीआरपीऍफ़ ने कहा है कि 28 दिसंबर को लखनऊ पुलिस और प्रियंका के बीच हुए टकराव के दौरान सुरक्षा नियमों जो तोड़ा गया. प्रोटेक्टि ने बिना किसी सूचना के यात्राएं की. जिसकी वजह से एडवांस सिक्योरिटी के संबंध में उनसे सम्पर्क नहीं किया जा सका. सीआरपीऍफ़ द्वारा प्रोटेक्टि के खतरे को देखते हुए उचित सुरक्षा मुहैया करवाई गई थी इसके बावजूद सुरक्षा नियमों की अनदेखी हुई. प्रोटेक्टि को सलाह दी जाती है कि भविष्य में सुरक्षा नियमों का अनुपालन किया जाए.

जिस स्कूटी पर बैठी थीं प्रियंका उसका कटा चालान

उधर लखनऊ ट्रैफिक पुलिस ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को स्कूटी से ले जाने वाले कांग्रेस नेता की स्कूटी का 6300 रुपये का चालान काट दिया है. दरअसल, कांग्रेस विधायक धीरज गुर्जर की स्कूटी पर सवार होकर प्रियंका गांधी शनिवार की शाम को पूर्व आईपीएस एसआर दारापुरी के घर जा रही थीं.

पुलिस ने काफिला रोका तो स्कूटी पर सवार हो गईं थी प्रियंका गांधी

प्रियंका गांधी शनिवार को पूर्व आईपीएस अधिकारी एसआर दारापुरी के परिवार के सदस्यों से मिलने जा रही थीं तो पुलिस (Police) ने उन्हें रोक लिया. पुलिस द्वारा रोके जाने पर प्रियंका गांधी ने मंजिल पर पहुंचने के लिए स्कूटी पर बैठकर यात्रा की. फिर कुछ दूर पैदल चलीं और पूर्व अधिकारी के घर पहुंच गईं. नागरिकता कानून के खिलाफ हाल में हुई हिंसा के मामले में भारतीय पुलिस सेवा के पूर्व अधिकारी एसआर दारापुरी को गिरफ्तार किया गया है.

प्रियंका ने पुलिस पर लगाया गला दबाकर गिराने का आरोप, पुलिस ने किया इनकार

प्रियंका गांधी ने पुलिस पर शनिवार को गंभीर आरोप लगाया था कि सीएए के खिलाफ हाल में हुई हिंसा के मामले में गिरफ्तार किए गए पूर्व आईपीएस अफसर के घर जाते वक्त उन्हें रोकने की कोशिश कर रही पुलिस ने उनका गला दबाकर उन्हें गिराया. हालांकि पुलिस ने इस बात से इनकार किया.




Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*