IND vs BAN: क्रुणाल का यह एक कैच टपकाना टीम इंडिया को पड़ा भारी




टी20 फॉर्मेट में पहली बार बांग्लादेश की टीम ने भारत को मात दे दी। अगर फील्डिंग के दौरान क्रुणाल पंड्या मुश्फिकुर रहीम का वह आसान सा कैच न टपकाते तो टीम इंडिया को यह मैच गंवाना न पड़ता। क्रुणाल की इस गलती मैच का टर्निंग पॉइंट साबित हुई और टीम इंडिया को यहां हारकर उसकी कीमत चुकानी पड़ी।

नई दिल्ली: भारत दौरे पर आई बांग्लादेश की टीम ने रविवार को 3 टी20 मैचों की सीरीज के पहले मैच में टीम इंडिया को हराकर अपने दौरे का शानदार आगाज किया है। इस जीत के साथ बांग्ला टीम ने टी20 क्रिकेट में नया इतिहास भी अपने नाम कर लिया। क्रिकेट के इस सबसे छोटे फॉर्मेट में यह भारत पर उसकी पहली जीत है, जबकि 9वीं बार बांग्ला टीम भारत का सामना कर रही थी। लेकिन इस जीत का टर्निंग पॉइंट जो लम्हा बना वह क्रुणाल पंड्या का एक आसान सा कैच ड्रॉप था। 18वें ओवर में क्रुणाल ने मुश्फिकुर का एक आसान सा कैच क्या टपकाया टीम इंडिया को वह मैच गंवाकर उसकी कीमत चुकानी पड़ी। एक बार फिर ‘कैचिस विन मैचिस’ (कैच पकड़ो, मैच जीतो) का कथन सही साबित हुआ।

दरअसल कम स्कोर वाले इस मैच में सबकुछ भारत के नजरिए सही होता दिख रहा था। लेकिन 18वें ओवर में डीप मिडविकेट पर खड़े क्रुणाल ने मुशफिकुर रहीम का आसान सा कैच टपका दिया। इस वक्त टीम इंडिया के सबसे चालाक स्पिनर माने जाने वाले युजवेंद्र चहल बोलिंग पर थे। बांग्लादेश का यह विकेटकीपर बल्लेबाज (मुश्फिकुर) स्वीप शॉट खेलना पसंद करता है और चालाक चहल ने उन्हें उनकी ताकत पर ही फंसा लिया था। लेकिन गेंद जब डीप मिडविकेट पर तैनात क्रुणाल पंड्या के हाथ में गई तो क्रुणाल इसे अपने हाथ में सुरक्षित नहीं पकड़ पाए। गेंद उनकी हथेली से लगी और छिटककर बाउंड्री पार कर गई।

यहां टीम इंडिया को एकसाथ दो नुकसान हुए एक तो बांग्लादेश को चौका मिला और दूसरा उसके सबसे भरोसेमंद खिलाड़ी का विकेट भी नहीं गिरा। अगर इस वक्त भारत को यह विकेट मिल जाता तो बांग्ला टीम मुश्किल में घिर जाती। अगर क्रुणाल यह कैच पकड़ लेते तो यहां से मेहमान बांग्लादेश को 15 बॉल में 33 रन की दरकार होती और बैटिंग के दोनों छोर पर नए बल्लेबाज होते। कोटला की धीमी पिच पर नए बल्लेबाजों के रन बनाना आसान नहीं होता और टीम इंडिया यह मैच आसानी से अपने नाम कर लेती।

NBT

यह टीम इंडिया को बड़ा नुकसान था। मुशफिकुर इस समय 38 रन पर बैटिंग कर रहे थे और क्रीज पर सेट एक मात्र बल्लेबाज थे, जो बांग्ला टीम को जीत दिला सकता था। उनका यह जीवनदान ही बांग्लादेश की भारत पर पहली जीत में टीम के काम आया। कैच छूटने के बाद अगली 7 गेंदों में रहीम 22 रन और कूटे। इस जीवनदान के बाद मुश्फिकुर ने संभल कर जोखिम उठाए और इस दौरान उन्होंने खलील अहमद के ओवर में लगातार चार चौके भी जमा डाले और अपनी टीम को जीत दिला दी। 43 गेंदों में 60 रन बनाने वाले मुश्फिकुर को मैन ऑफ द मैच का खिताब मिला।

इससे पहले किसी को भी ऐसी उम्मीद नहीं थी कि अपने नियमित कप्तान और ताकतवर ऑलराउंडर खिलाड़ी शाकिब अल हसन के बिना भारत आई बांग्ला टीम भारतीय टीम को कोई चुनौती भी दे पाएगी लेकिन अपने पहले ही मैच में उसने भारतीय फैन्स को ही नहीं टीम इंडिया को भी हैरान कर दिया। अब बांग्लादेश की टीम इस सीरीज में 1-0 से आगे हो गई है। सीरीज का दूसरा मैच गुरुवार को राजकोट में खेला जाएगा।

NBT




Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*