भारतीय खिलाड़ी ने कोच से दी गाली, किया टीम से बाहर, कभी पाकिस्तान की उड़ाई थी धज्जियां




कोलकाता.  भारत की ओर से 13 वनडे और 9 टी20 मैच खेलने वाले गेंदबाज अशोक डिंडा मु‌श्किलों में घिरते नजर आ रहे हैं. कोच को अपशब्द कहने और फिर माफी मांगने से इनकार करने पर उन्हें बंगाल की रणजी टीम से बाहर कर दिया गया है.  तेज गेंदबाज अशोक डिंडा को गुजरात के खिलाफ तीन जनवरी से खेले जाने वाले रणजी ट्रॉफी एलीट ग्रुप ए के मुकाबले के लिए सोमवार को घोषित 16 सदस्यीय टीम में जगह नहीं दी गई.
डिंडा को आंध्र प्रदेश के खिलाफ मैच से पहले गेंदबाजी कोच राणादेब बोस के साथ गलत व्यवहार करने और फिर माफी मांगने से इनकार करने पर टीम से बाहर कर दिया गया था. जिस वजह से उन्‍‌हें आंध्र प्रदेश के खिलाफ भी टीम से बाहर कर दिया गया था.

काजी जुनैद को मौका
गुजरात के खिलाफ बंगाल टीम में सुदीप चटर्जी की जगह बाएं हाथ के बल्लेबाज काजी जुनैद सैफी को मौका दिया गया है. बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के संयुक्त सचिव अभिषेक डालमिया के अनुसार टीम मैनेजमेंट की राय के आधार पर चयनकर्ताओं ने डिंडा को अभी भी टीम में शामिल करने पर विचार नहीं किया. अशोक डिंडा दिल्ली डेयरडेविल्स, कोलकाता नाइट राइडर्स,  राइजिंग पुणे सुपरजायंट्स और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर की ओर से भी खेल चुके हैं.

Ashok Dinda, Ranji Trophy, Ranadeb Bose, team india, bcci, cricket,अशोक डिंडा, रणजी ट्रॉफी,राणादेब बोस, क्रिकेट, स्पोर्ट्स न्यूज

आखिरी इंटरनेशनल मैच में पाकिस्तान की उड़ा दी थी धज्जियां
डिंडा ने 2009 में श्रीलंका के खिलाफ टी20 मैच से इंटरनेशनल क्रिकेट में कदम रखा था. वहीं उन्हाेंने 2010 में जिम्बाब्वे के खिलाफ वनडे क्रिकेट में डेब्यू किया था. 9 टी20 मैचों में डिंडा ने 17 विकेट लिए थे. वहीं 13 वनडे मैचों में उन्होंने कुल 12 विकेट लिए थे. डिंडा ने पाकिस्तान के खिलाफ अहमदाबाद में 2012 में अपना आखिरी इंटरनेशनल टी20 मैच खेला था. जबकि 2013 में उन्होंने राजकोट में इंग्लैंड (England) के खिलाफ आखिरी वनडे और आखिरी इंटरनेशनल मैच खेला. इस भारतीय गेंदबाज को अपने आखिरी टी20 मैच में पाकिस्तान के खिलाफ की गई घातक गेंदबाजी के लिए खासतौर पर याद किया जाता है. उस मैच में डिंडा ने तीन विकेट लिए थे. उन्हाेंने उमर अकमल, कप्तान मोहम्मद हफीज और कामरन अकमल का विकेट लिया था.




Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*