मची खलबली: शिवसेना से जंग में कंगना का बड़ा वार- इस नेता का नाम आया सामने

शिवसेना से जंग में कंगना का बड़ा वार
शिवसेना से जंग में कंगना का बड़ा वार

मुंबई। अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की संदेहास्पद मौत का मामला अब शिवसेना बनाम कंगना रनौत जंग में तब्दील हो चुका है। इसी कड़ी में ट्विटर पर बुधवार को चले आलोचनाओ के दौर में कंगना ने अपने दफ्तर की बिल्डिंग को शरद पवार की मिल्कीयत करार दिया। कंगना ने ट्वीट कर दावा किया कि उन्होंने यह दफ्तर पवार के पार्टनर से खरीदा है। कंगना के इस दावे से पुरी एनसीपी सकते में आ गई है। इस मामले में शरद पवार और एनसीपी की ओर से अब तक कोई आधिकारिक बयान सामने नहीं आया है।

मुंबई: शाहरुख खान का बंगला मन्नत में भी अवैध निर्माण, इसे भी गिराने कि उठ रही मांग

सुशांत सिंह राजपूत की संदेहास्पद मौत से परवान चढ़ी महाराष्ट्र की राजनीति ने बुधवार को ऐसी करवट बदली की, इस मामले ने शिवसेना बनाम कंगना में जंग का रूप अख्तियार कर लिया।

मुंबई के बांद्रा वेस्ट में पाली हिल इलाके के पूनम पैलेस में स्थित कंगना के मणिकर्णिका दफ्तर पर बीएमसी ने हथौड़ा चला दिया। इस कारवाई से आक्रोशित कंगना ने बुधवार को महाराष्ट्र की ठाकरे सरकार और शिवसेना के खिलाफ कई ट्वीट किए। इसी कड़ी में बुधवार 9 सितंम्बर की रात 8 बजकर 41 मिनट पर कंगना ने ट्वीट करते हुए कहा कि यह मामला केवल उनके दफ्तर तक सीमित नहीं है। कंगना ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार के इस बिल्डिंग का मालिक करार दिया। साथ ही कंगना ने दावा किया कि उन्होंने शरद पवार के पार्टनर शाहिद बलवा से अपने दफ्तर के लिए फ्लैट खरीदा था।

कौन है शाहिद बलवा 
कंगना का दफ्तर जिस पूनम पैलेस बिल्डिंग में स्थित है वही बिल्डिंग डीबी ग्रुप की है। डायनेमिक्स बल्वाज ग्रुप यानी डीबीग्रुप के को-फाउंडर और डीबी रियल्टी के प्रोमोटर शाहिद उस्मान बलवा ऐसी शख्सियत हैं जिनका प्रतिष्ठित फॉर्ब्स मैगजीन द्वारा जारी देश के सबसे अमीर लोगों की सूची में नाम आता है।

राजनीति शुरू: कंगना के ऑफिस पर बुलडोजर चलाना उद्धव सरकार को पड़ेगा महंगा, देना पड़ेगा हर्जाना !

शाहीद बलवा का नाम सबसे पहले 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले के मुख्य संदिग्ध के रूप में सामने आया था। इस मामले में शाहिद बलवा गिरफ्तार भी हो चुके हैं। वहीं बलवा के अंडरवर्ल्ड डॉन दाउद इब्राहिम से कनेक्शन होने के आरोप लगते रहे हैं। शाहिद बलवा पूर्व संचार मंत्री ए राजा के काफी करीबी माने जाते हैं। इन्हीं संबंधों के आधार पर शाहिद की कंपनी स्वान टेलीकॉम को सिर्फ 1537 करोड़ में 13 सर्किल के लाइसेंस मिल गए थे। वही पुणे में 300 करोड़ के जमीन घोटाले में शाहिद उस्मान बलवा और उनके साथी विनोद गोएंका का नाम सामने आया था। साथ ही विनोद गोएंका के दाऊद इब्राहिम से रिश्ते होने के आरोप भी लगते रहे हैं।

एनसीपी अध्यक्ष शरद पवार और शाहिद बलवा के रिश्तों को लेकर महाराष्ट्र विधानसभा में काफी हंगामा हुआ था। तत्कालीन विपक्ष के नेता एकनाथ खडसे ने महाराष्ट्र विधानसभा में आरोप लगाया था कि शरद पवार, प्रतिभा पवार, विनोद गोयनका और बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष शशांक मनोहर एक साथ शाहिद बलवा के प्लेन से दुबई गए थे। खड़से ने ये भी आरोप लगाया कि विनोद गोयनका के भाई के अंडरवलर्ड डॉन दाऊद से रिश्ते हैं। खडसे ने विधानसभा में यह प्रश्न भी पूछा था कि ऐसे लोगों के पवार के संबंध क्यों हैं।

एनसीपी खेमे में चुप्पी 
कंगना के कार्यालय पर बीएमसी का हथौड़ा चलने के बाद एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने इसे गैरजरूरी और बेवक्त कार्रवाई करार दिया था। पवार ने कंगना को तवज्जो ना देने की नसीहत सरकार में शामिल अपने साथियों को दी थी । इसके बाद कंगना की ओर से बुधवार को शाहीद उस्मान बलवा और शरद पावर के कथित कारोबारी रिश्तों को निशाना बनाते हुए ट्वीट किया गया, लेकिन पवार फैमिली, एनसीपी और सरकार के सभी लोग शाहिल बलवा का नाम सामने आते ही सकते में आ गए हैं। किसी की ओर से इस बारे में कोई आधिकारिक बयान, खंडन या टिप्पणी सामने नहीं आई है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*