राजनीति शुरू: कंगना के ऑफिस पर बुलडोजर चलाना उद्धव सरकार को पड़ेगा महंगा, देना पड़ेगा हर्जाना !

कंगना और उद्धव
कंगना और उद्धव

नई दिल्ली: सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद जो राजनीति शुरू हुई थी, वो आज एक ऐसे मोड़ पर पहुंच गई, जहां से इसका असर महाराष्ट्र की राजनीति पर पड़ना तय है. कंगना रनौत ने मुंबई पुलिस और महाराष्ट्र सरकार पर सुशांत की मौत के दोषियों को बचाने का आरोप लगाया था. इसके बाद शिवसेना के नेताओं ने उनके खिलाफ बयानबाजी शुरू कर दी थी. कल सुबह बृहन्मुंबई महानगर पालिका यानी बीएमसी (BMC) का एक दस्ता मुंबई में कंगना रनौत के दफ्तर पर पहुंचा और दफ्तर के एक हिस्से पर तोड़फोड़ शुरू कर दी.

बीएमसी के अधिकारियों का कहना है कि ये अवैध निर्माण है. इसका नोटिस कंगना को एक दिन पहले ही भेजा गया था. जिसका उन्होंने जवाब भी दे दिया था. लेकिन उसका कोई फायदा नहीं हुआ. कंगना रनौत कल सुबह चंडीगढ़ से मुंबई के लिए रवाना हुईं थीं, ठीक उसी समय उनके दफ्तर पर बीएमसी के हथौड़े बरस रहे थे. विमान में बैठी कंगना ट्वीट पर ट्वीट कर रही थीं, लेकिन बीएमसी का बुलडोजर चलता रहा.

बॉम्बे हाई कोर्ट ने क्या कहा…
इस दौरान कंगना रनौत के वकील रिजवान सिद्दीकी भी मौके पर पहुंचे. उन्होंने बीएमसी के अधिकारियों से बात करने की कोशिश की, लेकिन कोई असर नहीं हुआ. तोड़फोड़ की कार्रवाई के खिलाफ कंगना के वकील ने बॉम्बे हाई कोर्ट में अपील की. दोपहर होते-होते कोर्ट ने बीएमसी की कार्रवाई पर रोक लगा दी. लेकिन इससे पहले ही कंगना का दफ्तर पूरी तरह तहस-नहस किया जा चुका था और एक ट्रक में उसका मलबा उठाया जा रहा था. इसके बाद महाराष्ट्र से जिस तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं, उसे देखकर हम कह सकते हैं कि उद्धव ठाकरे को यह मलबा राजनीतिक तौर पर बहुत भारी पड़ सकता है. हमारे देश में राजनीति का स्तर चाहे जो हो, लेकिन जनता इस तरह के राजनीतिक बदले को कभी पसंद नहीं करती.

कंगना की बड़ी जीत: हार मान गई उद्धव सरकार, बॉम्बे हाईकोर्ट का आ गया आदेश

कंगना के दफ्तर पर बीएमसी की कार्रवाई पर स्टे लगाते हुए बॉम्बे हाई कोर्ट ने जो बातें कहीं हैं वो आपको जाननी चाहिए. कोर्ट ने कहा है कि बीएमसी अगर इतनी फुर्ती अतिक्रमण के दूसरे मामलों में दिखाती तो शहर की ये हालत नहीं होती. कोर्ट ने कहा कि लगता है कि ये कार्रवाई बदनीयती के साथ की गई है.

जानिए कंगना के दफ्तर के बारे में खास बातें
– कंगना रनौत के जिस दफ्तर में आज तोड़फोड़ की गई, उसका नाम मणिकर्णिका है.

– ये बिल्डिंग मुंबई के सबसे पॉश इलाके पाली हिल्स में है, जो मुंबई उपनगर जिले में है.

– मुंबई उपनगर जिले के गार्जियन मिनिस्टर आदित्य ठाकरे हैं. यानी ये इलाका सीधे आदित्य ठाकरे के तहत आता है.

– कंगना रनौत ने तीन साल पहले इसे लगभग 20 करोड़ रुपये में खरीदा था.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*