पलटवार: कमलनाथ सरकार द्वारा लिए गए फैसले को शिवराज सरकार ने पलटा, जानना है जरुरी

कमलनाथ द्वारा लिए गए फैसले को शिवराज ने पलटा
कमलनाथ द्वारा लिए गए फैसले को शिवराज ने पलटा

मध्य प्रदेश में कमलनाथ सरकार द्वारा लिए गए फैसले को शिवराज सरकार एक-एक कर बदल रही है, जिस कॉलेज को अपने कार्यकाल में कमलनाथ सरकार ने बंद कर दिया था, अब शिवराज सरकार ने उसे दोबारा शुरू किया है। शिवराज सरकार का मानना है कि इस कॉलेज को दोबारा शुरू करने से छात्रों के भविष्य पर प्रश्नचिन्ह नहीं लगेगा। लोक निर्माण, कुटीर एवं ग्रामोद्योग मंत्री गोपाल भार्गव ने सागर जिले के रहली में उद्यानिकी महाविद्यालय के दोबारा प्रारंभ करने पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के प्रति आभार व्यक्त किया है।

एक ट्वीट से हिली उद्धव सरकार: कंगना रनौत के सपोर्ट में उतरा पूरा मीडिया जगत, पत्रकार रुबिका ने मचाया हडकंप

मंत्री भार्गव ने कहा कि तत्कालीन राज्य सरकार ने अगस्त-2018 में बुंदेलखण्ड अंचल को बड़ी सौगात प्रदान करते हुए सागर जिले के रहली तहसील में उद्यानिकी महाविद्यालय प्रारंभ करने का फैसला लिया था। इसके तहत शैक्षणिक सत्र 2018-19 और 2019-20 में प्रोफेशनल एक्जामिनेशन बोर्ड द्वारा चयनित विद्यार्थियों को प्रवेश दिया गया। इन महाविद्यालयों में तीन सेमेस्टर के शैक्षणिक सत्र भी पूर्ण किए गए हैं। लेकिन, पूर्ववर्ती सरकार ने 6 मार्च को राजनैतिक कारणों से महाविद्यालय का संचालन बंद करने का निर्णय लिया।

मुंबई: शाहरुख खान का बंगला मन्नत में भी अवैध निर्माण, इसे भी गिराने कि उठ रही मांग

परिणामस्वरूप प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले कृषि उद्यानिकी विषय के छात्रों के भविष्य पर प्रश्नचिह्न खड़ा हो गया था। यह प्रदेश का दूसरा उद्यानिकी महाविद्यालय है। मंत्री भार्गव ने बताया कि प्रदेश में 6 मार्च, 2020 को वर्तमान सरकार के गठन के बाद पुन: पूर्ववर्ती सरकार के निर्णय की समीक्षा कर जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय, जबलपुर के अंतर्गत उद्यानिकी महाविद्यालय रहली पुन: संचालित करने का जन-हितैषी निर्णय लिया गया है।

इस निर्णय से प्रदेश सहित विशेषकर बुंदेलखण्ड अंचल में हर्ष व्याप्त है। ज्ञात हो कि इससे पहले कलेक्टरों के पदनाम बदलने के लिए कमलनाथ सरकार द्वारा गठित कमेटी को भी शिवराज सरकार ने भंग कर दिया था।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*