सुशांत के पूर्व ड्राइवर ने किए रिया के कई खुलासे, CBI एक बार फिर से करने जा रही ये काम, जानिए

रिया
रिया

सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले की CBI समेत कई अन्य एजेंसियां जांच कर रही है। वही NCB ने ड्रग्स केस में सुशांत के साथ लिव-इन-रिलेशन में रह रहीं रिया चक्रवर्ती को गिरफ्तार किया कर लिया है। साथ ही मामले की जांच तेजी से चल रही है। इस बीच रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क ने सुशांत के पूर्व ड्राइवर का स्टिंग ऑपरेशन किया है। जिसमें उन्होंने ये दावा किया है कि इस पूरे मामले की मुख्य आरोपी रिया सुशांत को ड्रग्स देती थी।

कंगना के बाद संजय राउत के निशाने पर अक्षय कुमार, मुंबई पर पहला हक,,,

सुशांत के पूर्व ड्राइवर ने दावा किया है कि, ‘रिया ने पूरे घर का चार्ज संभाल लिया था और स्टाफ को निकाल रही थी। रिया सुशांत के पैसों पर भी नियंत्रण रखती थी। घर में काम करने वाले लोग मुझे बताते थे कि इस घर में ‘रिया का राज’ है।’ रिया ने सुशांत के ड्राइवर रजत को उनके पिता इंद्रजीत की ड्यूटी करने के लिए भी तैनात किया था।

“जब भी हमने फोन किया, उन्होंने कहा कि सुशांत सो रहा है। कोई कितना सो सकता है? इसका मतलब है कि वह उसे कुछ दे रही थी।” ड्राइवर ने रिया की कार के बारे में बात करते हुए कहा, “मुझे लगता है कि सुशांत से मिलने से पहले उसके पास गाड़ी नहीं थी।”इस बीच मुंबई पुलिस से इस केस को संभालने के बाद मामले की CBI जांच अभी भी चल रही है। वही शनिवार को सीबीआई ने सुशांत के जिम ट्रेनर शमी अहमद को पूछताछ के लिए बुलाया था। इससे पहले एजेंसी ने आरोपी रिया चक्रवर्ती और उसके परिवार के सदस्यों, संदीप सिंह और कई अन्य लोगों से पूछताछ की है।

बॉलीवुड: रिया चक्रवर्ती की जुबान खुलते ही मुंबई छोड़ भागने लगे सितारें, NCB ने कसा शिकंजा

इसके साथ ही बताया जा रहा है कि CBI एक बार फिर से सुशांत के ‘करीबी’ दोस्त संदीप सिंह को फिर से पूछताछ के लिए बुला सकती है। बता दें, संदीप से एक दौर की पूछताछ हो चुकी है।वही नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने ड्रग्स केस में अब तक रिया समेत 16 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। रिया को फिलहाल 22 सितंबर तक भायखला जेल में रखा गया है। एजेंसी ने प्रवर्तन निदेशालय द्वारा उपलब्ध कराए गए सबूतों के आधार पर जांच शुरू की थी, जो सुशांत के परिवार द्वारा लगाए गए वित्तीय गड़बड़ियों की जांच कर रही है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*