देश का ये इलाका दशहरे पर कांप उठा, हर तरफ मच गई थी चीख




नई दिल्ली। पंजाब से दशहरे के दिन आई थी सबसे बुरी खबर। इस खबर के बाद दहल उठा था पंजाब। दरअसल आज से ठीक एक साल पहले पंजाब के अमृतसर में रावण दहन के दौरान अमृतसर एक्स्प्रेस लोगों को रोंद कर गुजर गई थी। इस हादसे में 60 लोग मारे गए थे।

उस शाम रावण जल रहा था। बच्चे, बूढ़े और जवान बदी पर नेकी की विजय का प्रतीक दशहरा के रंग में पूरी तरह रंग चुके थे। अचानक, वो हुआ जिसकी किसी को उम्मीद नहीं थी। जौड़ा फाटक के समीप रेलवे ट्रैक पर खड़े 59 लोग एक ही पल में लाश बन गए।

पठानकोट से आ रही डीएमयू ट्रेन सभी को रौंदते हुए चली गई। रेलवे ट्रैक के इर्द-गिर्द लाशें बिखर गईं। इस हादसे को एक साल पूरा हुआ (तिथि के मुताबिक)। लेकिन अब वो मंजर लोगों के जहन में ताजा है। जिससे पूरे देश की रूह कांप उठी थी।

19 अक्‍टूबर 2018 को जौड़ा फाटक रेल फाटक के पास ट्रैक पर खड़े होकर रावण दहन देख रहे लोगों को तेज गति से आ रही ट्रेन रौंदती चली गई थी।

थोडी़ देर पहले उत्‍सव में झूम रहे लोगों में चीख-पुकार मच गई। लोगों की चीत्‍कार से पूरा माहौल गूंज उठा। इस दर्दनाक घटना ने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था।

किसी ने अपना बेटा खो दिया तो किसी ने अपना पिता, किसी की बेटी नहीं रही तो कोई मां की ममता से महरूम हो गया। दर्जनों आंगन दुखों में डूब कर सूने हो गए।

_103938640_ravan1.jpg

रावण का रोल करने वाला भी हादसे का शिकार
इस हादसे में जहां एक तरफ रावण का दहन हो रहा था तो वहीं दूसरी तरफ ट्रैक पर मौत का तांडव चल रहा था।

राम लीला में रावण का रोल कर रहे शख्स की भी इस हादसे में मौत हो गई।

घर से ये शख्स कह कर निकला का रावण दहन देखकर आता हूं, लेकिन उसे नहीं पता था कि वो खुद मौत को गले लगाने जा रहा है।

ट्रैक पर खड़े होकर रावण दहन का इंतजार कर रहे इस शख्स को ट्रैन रोंदती हुई निकल गई।




Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*