भाजपा इन तीन वजहों से झारखंड में खा गई मात, दूसरी वजह तो है सबसे बड़ी




भारतीय जनता पार्टी झारखंड चुनाव के दौरान बड़े-बड़े दावे कर रही थी। पार्टी ने अबकी बार 65 पार का नारा भी दे दिया था। पीएम मोदी और अमित शाह ने भी अपनी पूरी ताकत झोंक दी थी। हालांकि चुनाव रुझान सामने आए तो पार्टी को निराशा का सामना करना पड़ा। रुझानों में कांग्रेस गठबंधन 41 सीटों पर दबदबा बनाए है। वहीं भाजपा 29 सीटों पर ही आगे है। हम आपको बताते हैं उन तीन वजहों को जिनके कारण भाजपा झारखंड में मात खा गई। इनमें दूसरी वजह तो सबसे खास है।

वजह नंबर 1

भारतीय जनता पार्टी ने झारखंड चुनाव 2019 के दौरान जो पहली गलती की है वो अकेले ही इस राज्य में चुनाव लड़ने का फैसला रहा। चुनाव से ठीक पहले आजसू औऱ भाजपा का गठबंधन टूट गया। हालांकि भाजपा नेताओं ने आजसू से तालमेल बैठाकर उसको वापस लाने की कोशिश भी नहीं की। इस वजह से पार्टी को करीब 12 सीटों का नुकसान हुआ है।

वजह नंबर 2

भारतीय जनता पार्टी ने भले ही चुनाव के लिए बड़े सपने देखे थे लेकिन उन सपनों को वो मुद्दों की धार नहीं दे सके। भाजपा की मात की दूसरी सबसे बड़ी वजह रही स्थानीय मुद्दों की जगह राष्ट्रीय मुद्दों को तरजीह देना जिसको जनता ने पूरी तरह से नकार दिया। भाजपा ने स्थानीय मुद्दों पर ध्यान नहीं दिया औऱ जनता में बीजेपी छवि विकास विरोधी बन गई।

वजह नंबर 3

भाजपा की मात खाने की बात करें तो तीसरी वजह भी बड़ी है। बीजेपी ने नागरिकता संशोधन कानून को ऐसे समय में लागू किया जब चुनाव हो रहे थे। इसी वजह से माहौल भाजपा के खिलाफ में बन गया और अल्पसंख्यकों के वोट सीधे दूसरे दलों की ओर चले गए। इन तीन वजहों से भाजपा सरकार मात खा गई और कांग्रेस का पलड़ा भारी पड़ गया।




Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*