CAA पर शांति व्यवस्था एवं विचार गोष्ठी कार्यक्रम का आयोजन




मथुरा: कृष्णा नगर मुकुंद पैलेस रिजॉर्ट में नागरिकता संशोधन बिल पर शांति व्यवस्था को बनाए रखने के लिए, CAA पर विचार गोष्ठी का कार्यक्रम चौकी प्रभारी कृष्णा नगर व्यापार मंडल एवं जनप्रतिनिधियों के बीच रखा गया|

जिसमें मौजूद रहे मुसलमान और हिंदू भाइयों को CAA के बारे में अवगत कराया गया और शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील की गई| कार्यक्रम की अध्यक्षता चौकी प्रभारी श्री धर्मेंद्र भाटी जी एवं सौंख रोड,व्यापार मंडल अध्यक्ष सुरेंद्र सैनी| विशिष्ट तौर पर जनता को जागरूक करने का और शांति व्यवस्था बनाए रखने का संदेश कृष्णा नगर (पार्षद) चंदन आहूजा एवं युवा व्यापार मंडल महामंत्री जितेंद्र प्रजापति जी द्वारा की गई| शांति व्यवस्था को जनता में बनाए रखने के लिए साथ में मौजूद रहे पार्षद प्रदीप अरोड़ा जी, नवीन सोनी जी, मुन्ना मलिक जी , गुड्डू खान, आरिफ भाई और पवन चौधरी|

CAA हिंसा पर बड़ा खुलासा, लखनऊ में कश्मीर से बुलाए गए थे सेना पर पत्थरबाजी करने में माहिर लोग

यूपी में सीएए के विरोध में हुए प्रदर्शन के दौरान हिंसा फैलाने की तैयारी में जुटे पीएफआई ने दूसरे राज्यों के लोगों को बुलाया था। जामिया मिल्लिया में हुए हिंसक प्रदर्शन के बाद ही लखनऊ में भी ऐसा ही धरना करने का खाका खींचा जा चुका था।

इसके लिए अन्य राज्यों के साथ ही कश्मीर से भी सेना पर पत्थरबाजी करने में माहिर लोगों को भी बुलाया गया था। पकड़े गए आरोपियों ने पुलिस को बताया है कि उन्हें पुराने लखनऊ व कई हॉस्टल में ठहराया गया था।

उन्हें हजरतगंज तक पहुंचने और हिंसा फैलाने के बाद वहां से वापस निकलने के रास्तों की जानकारी भी गिरफ्तार किए गए पीएफआई के पदाधिकारियों ने दी थी। हिंसक प्रदर्शन में शामिल हुए यह पत्थरबाज चेहरे पर नकाब बांधे हुए थे।

वहीं, लखनऊ में 19 दिसम्बर को परिवर्तन चौक, खदरा और हुसैनाबाद  समेत अन्य स्थानों पर हुई आगजनी और तोड़फोड़ करने वालों से नुकसान की भरपाई करने की तैयारी शुरू हो गई है। पुलिस ने ऐसे करीब एक सौ चेहरों की पहचान की है जो आगजनी और तोड़फोड़ में लिप्त थे। अब इनको प्रशासन की ओर से सरकारी सम्पत्ति के नुकसान की भरपाई की नोटिस थमाए जाने की तैयारी है।

भू राजस्व की तरह होगी वसूली 

अधिकारियों के अनुसार सार्वजनिक व निजी सम्पत्तियों को नुकसान पहुंचाने वालों की पहचान पुलिस रिपोर्ट के आधार पर होगी। नुकसान का मुल्यांकन कराया जाएगा। राजस्व, पुलिस और संबंधित विभाग द्वारा क्षति का मुल्यांकन किया जाएगा। जिसे आरोपतियों में बांटा जाएगा। संबंधित क्षेत्र के नामित प्राधिकारी अपनी कोर्ट से आरोपी को नोटिस देंगे। इस नोटिस के एवज में अगर जवाब या पेनाल्टी नहीं जमा की जाती तो नुकसान की वसूली आरोपी से भू राजस्व (कुड़की) की तरह की जाएगी। सम्पत्तियों की नीलामी भी की जा सकती है।




Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*