प्रदूषण: दिल्ली-एनसीआर की हवा में घुला जहर, चार साल में सबसे खतरनाक स्तर पर




GURGAON, INDIA NOVEMBER 5: Due to weather changes the city came under a thick blanket of smog on November 5, 2013 in Gurgaon, India. The Met Office has forecast a cloudy day. The city experienced similar weather on Monday and the maximum temperature was recorded two notches below the season's average at 28.3 degrees Celsius, while the minimum was 12.6 degrees Celsius- three notches below the season's average. (Photo by Manoj Kumar/Hindustan Times via Getty Images)

नई दिल्ली। धूल के गुबार से परेशान दिल्ली-एनसीआर में हालात गंभीर बने हुए हैं। दिल्ली खतरनाक स्तर का प्रदूषण झेल रही है। प्रदूषण अभी भी खतरनाक कैटिगरी में है। सीपीसीबी के एयर बुलेटिन के अनुसार, गुरुवार को दिल्ली का एयर इंडेक्स 431 रहा। वहीं, सफर के 8 मॉनिटरिंग स्टेशनों पर शाम 5 बजे तक एयर इंडेक्स 1093 बना रहा। ये इलाके हैं- धीरपुर, डीयू, पीतमपुरा, पूसा, लोदी रोड, एयरपोर्ट टर्मिनल थ्री, मथुरा रोड और आया नगर। दिल्ली में कई जगह तो प्रदूषण का स्तर इतना बढ़ गया है कि यहां प्रदूषण नापने की मशीन भी फेल हो गई।
एनसीआर में सबसे ज्यादा प्रदूषित ग्रेटर नोएडा है। यहां एयर इंडेक्स 500 रहा जबकि गुडगांव में 485, नोएडा में 390, गाजियाबाद में 384 और फरीदाबाद में 317 एयर इंडेक्स दर्ज हुआ। दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण पिछले चार सालों में सबसे खराब स्तर पर है। अभी राजस्थान से आने वाली हवाओं की स्पीड 30-40 किमी प्रति घंटे है।
धूल का गुबार बढ़ने के साथ दिल्ली का न्यूनतम तापमान भी बढ़ा है। गुरुवार को अधिकतम तापमान 40.5 डिग्री रहा वहीं न्यूनतम तापमान 32 डिग्री पर रहा। यह सामान्य से 5 डिग्री अधिक है। स्काइमेट के अनुसार न्यूनतम तापमान में हो रही वृद्धि की वजह धूल है। स्काइमेट के अनुसार हरियाणा, पंजाब, दिल्ली व उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में धूल का गुबार छाया हुआ है। सुबह और शाम के समय धूल अधिक नजर आ रही है। धूल की इस चादर की वजह से गर्मी अधिक महसूस हो रही है। मौसम विभाग की मानें तो अगले दो दिनों तक इसी तरह की स्थिति बनी रहेगी। गर्म धूल के इस गुबार से शुक्रवार को राहत नहीं मिलेगी। दोपहर के समय हवा चलने से धूल के गुबार में कुछ कमी देखने को जरूर मिली।




Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*